नेहरू युवा केन्द्र

नेहरू युवा केन्द्र नाहन (सिरमौर), युवा मामलों और खेल मंत्रालय, भारत सरकार के अधीन एक स्वायतशासी संस्था है जिसे 1972 में राष्ट्र निर्माण की प्रकिया में भाग लेने के लिए ग्रामीण युवाओं का मार्गदर्शन करने और साथ ही उनको सशक्तिकरण के अवसर प्रदान के उद्देश्य से स्थापित किया गयाताकि उनके व्यक्तित्व और कौशल का विकास हो सके। नेहरू युवा केन्द्र संगठन विश्व का सबसे बडा जमीनी स्तर का युवा संगठन है।यह स्वैच्छिकता आत्म.-सहायता और सामुदायिक भागीदारी के सिद्वांतों पर युवाओं की शक्ति को नियंत्रित करता है।

पिछले कुछ वर्षो में ,नेहरू युवा केन्द्र संगठन द्वारा गावों में युवा संगठन स्थापित किए गए है। नेहरू युवा केन्द्र संगठन ने हर ब्लॉक के प्रत्येक ग्राम में युवा मंडल बनाने और युवा शक्तियों के विकास की पहचान करने का लक्ष्य रखा है। नेहरू युवा केन्द्र संगठन की मूल ताकत युवा मंडलों के स्वयं के नेटवर्क में निहित है। युवा मडंल समुदाय विकास और युवा सशक्तिकरण के लिए काम कर रहे गांव पर आधारितसंगठन है।

युवा मंडल के निर्माण के लिए मूल उद्देश्यः युवा सशक्तिकरण पर ध्यान केंद्रित करने वाली गतिविधियों को शामिल करना और विकास पहलों के माध्यम से सामुदायिक समर्थन प्रदान करना। युवा मंडलों के कार्यक्रमों और गतिविधियों का कार्यान्वयन विभिन्न सरकारी विभागों और अन्य एजेंसियों से संसाधनों को एकत्रित करके स्थानीय जरूरतों और आवश्यकताओं पर आधारित है जिसमें राष्ट्रीय,राज्य स्तर और बहुपक्षीय संस्थान शमिल है।युवा मंडल और इसके सदस्य एनवाईकेएस राष्ट्रीय युवा स्वयंसेवी के माध्यम से विशाल नेटवर्क का आधार बनाते है।

उद्देश्य

  • राष्ट्र निर्माण गतिविधियों में ग्रामीण युवाओं को शामिल करना।
  • ग्रामीण युवाओं में ऐसे कौशल और मूल्यों को विकसित करना जिनके साथ वे एक आधुनिक,धर्मनिरपेक्ष और तकनीकी राष्ट्र के जिम्मेदार नागरिक बन जाए।
  • नेहरू युवा केन्द्र संगठन युवा मामलों के मंत्रालय के विभिन्न युवा कार्यक्रमों और अन्य मंत्रालयों के समन्वय और सहयोग करना और कुछ विशेष कार्यक्रमों के साथ युवा विकास के विभिन्न मोर्चों मंे काम करना।

दृष्टि

धर्मनिरपेक्ष तरीकों ,कौशल विकास और युवाओं को उत्पादक और संगठित व्यवहार को अपनाने में मदद करने के लिए अच्छी नागरिकता,सोच और करने के मूल्यों पर विकास कर रहा है दृष्टिकोण- संगठन की दृष्टि जमीनी स्तर पर अच्छी नागरिकता और युवा नेतृत्व के लिए दीर्घकालिक रणनीतियों को विकसित करने पर केद्रिंत है। युवा मंडलों का गठन खेल, सांस्कृतिक और स्थानीय गतिविधियों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। युवा नेतृत्व युवाओं का गठन और रखरखाव के दौरान विकसित किया जाता है।यह नेतृत्व बनाने में बेहद उपयोगी होता हैः-

  • स्वयंसेवको का नेटवर्क
  • राजनीति और विकास के मौलिक लोकतांत्रिक प्रथाओं में भागीदारी के अवसर।
  • युवाओं के सशक्तिकरण के साधन जैसेःकौशल निर्माण,स्वास्थ्य,जीवन कौशल और स्वारोजगार के बारे में जागरूकता निर्माण।
  • इन सब को ध्यान में रखते हुए कि भारतीय जनसंख्या का लगभग तीन चैथाई भाग ग्रामीण है,पूरी तरह से राष्ट्र का विकास उनकी प्रगति और विकास पर निर्भर करता है। इसके अलावा,युवा जनसंख्या के बडे हिस्से के कारण देश ने जनसंाख्यिकीय लाभांश का आनंद लिया हैजो युवाओं के सशक्तिकरण का वादा करने के लिए एनवाईकेएस जैसे सबसे बडे युवा संगठनों के लिए लगभग अधिक अनिवार्य बनाता है।

नेहरू युवा केन्द्र द्वारा संचालित कार्यक्रम

भाग – 1 कोर/नियमित कार्यक्रम

  • युवा मंडल विकास कार्यक्रम(वाईसीडीपी)‌‍- यह समाज के सभी वर्गो के प्रतिनिधित्व के साथ युवा मंडलों के मौजूदा नेटवर्क को मजबूत करना है
  •  युवा नेतृत्व और सामुदायिक विकास (टीवाईएलसीडी)प्रशिक्षणः- इस कार्यक्रम का उददेश्य युवा लोगों की क्षमताओं को बढाने के लिए दूसरों को सार्थक जीवन जीने और राष्ट्र निर्माण के लिये योगदान देने में मदद करने के लिए नेतृत्व करना है।
  • खेल का प्रचारः-
    • खंड स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता
    • जिला स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता
    यह ग्रामीण युवाओं के बीच खेल संस्कृति और खेल कौशल को बढावा देता है।
  • कौशल संर्वधन प्रशिक्षण कार्यक्रमः- इस कार्यक्रम का उददेश्य ग्रामीण युवा महिलाओं के व्यवसायिक कौशल विकसित करना और उन्हें अपनी पारिवारिक आय के पूरक के साथ साथ समाज में आत्मसम्मान बढाने के साथ साथ मुद्दों को हल करने के लिए सशक्त बनाने के लिए सक्षम बनाना है।
  • कला और संस्कृति के जिला स्तर के प्रचारः- यह ग्रामीण युवाओं को अपनी लोक सांस्कृतिक प्रतिभा प्रदर्शित करने और इसे संरक्षित और बढावा देने में सुविधा प्रदान करने का अवसर प्रदान करता है।
  • राष्ट्रीय महत्व, राष्ट्रीय युवा दिवस और सप्ताह के दिनों का अवलोकनः- राष्ट्रीय और अन्तर्राष्ट्रीय महत्व के किसी विशेष दिन के पीछे उद्देश्य,विषय और महत्व के बारे में जागरूकता पैदा करना है।
  • जिला युवा सम्मेलनः- यह ग्रामीण युवा नेताओं को उत्पादों को प्रदर्शित करने और स्वंय को व्यक्त करने और युवा सशक्तिकरण के लिए सर्वोतम अभ्यास कार्यक्रमों का सुझाव देने के अवसर और मंच प्रदान करेगा।
  • जिला,राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर उत्कृष्ट युवा मंडलों के लिए एओवाईसी पुरस्कार
  • महात्मा गांधी युवा श्रमदान अभियान
  • युवा आदर्श ग्राम विकास कार्यक्रम

भाग 2 अन्य कार्यक्रम

  • जिला स्तरीय युवा कार्यक्रम सलाहकार समिति – जिला स्तर पर विभिन्न विभागों के साथ समन्वय स्थापित कर सभी कार्यक्रमों का आयोजन सुनिश्चित करने के लिये यह समिति कार्य करती है।

नेशनल यूथ कोर (एनवाईवी)

सरकार ने युवाओं की क्षमता को टैप करने और राष्ट्र निर्माण के प्रति अपनी उर्जा को प्रसारित करने के लिए वितीय वर्ष 2010-11 के दौरान “राष्ट्रीय युवा कोर“ की एक नई योजना शुरू की गई।यह जून 2009 में संसद के दोनो सदनों और जम्मू कश्मीर के लिए अक्टूबर 2009 में प्रधानमंत्री की घोषणा के राष्ट्रपति के अनुसरण में है। “राष्ट्रीय युवा कोर“ नामक नई योजना शुरू की गई,जिसमें मौजूदा दो स्वयंसेवी योजनाएं अर्थात् राष्ट्रीय युवा स्वयंसेवी (एनवाईसी) और राष्ट्रीय सदभावना योजना (आरएसवाई) शामिल है।

उद्देश्य

  • अनुशसित और समर्पित युवाओं का एक समूह स्थापित करने के लिए जिनके पास राष्ट्र निर्माण के कार्य संलग्न होने की झुकाव और भावना है
  • समावेशी विकास (सामाजिक और आर्थिक)की प्राप्ति की सुविधा के लिए।
  • जानकारी के प्रचार के लिए अंक के रूप में कार्य करने के लिए,समुदाय में बुनियादी ज्ञान।
  • समूह माडयूलर और सहकर्मी समूह शिक्षकों के रूप में कार्य करने के लिए।
  • युवा लोगों के लिए विशेष रूप से सार्वजनिक नैतिकता,परिवीक्षा और श्रम की गरिमा बढाने के लिए भूमिका माडल के रूप में कार्य करने के लिए।

पात्रता

18-29 आयु वर्ग में अपने वाले युवा पुरूष और महिला स्ंवयसेवक पात्र होंगे।

मानदेय

स्वयंसेवको का प्रतिमाह 5000 रू0 मानदेय दिया जायेगा।

अधिक जानकारी के लिये सम्पर्क करे

जिला युवा समन्वयक
जिला युवा समन्वयक कार्यालय
प्रथम तल, पंचायत भवन, पक्का टैंक, नाहन – 173001
कार्यालय फोन एवं फैक्स – 01702-222635
मोबाइल नम्बर – 9412435949
ईमेल – nyknahan[at]gmail[dot]com
वेबसाइट – www.nyks.nic.in